Skip to main content

भारत के राष्ट्रीय उद्यान - राज्यवार

🎓  नेशनल पार्क ~राज्यवार 
🌴राजस्थान 1. केवला देवी राष्ट्रीय उद्यान 2. रणथ्मभोर राष्ट्रीय पार्क 3. सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान 4. डैजर्ट राष्ट्रीय पार्क 5. दर्रा राष्ट्रीय पार्क 6. घना पक्षी राष्ट्रीय पार्क 7. केवला देवी राष्ट्रीय पार्क 8. ताल छापर अभ्यारण्य 9. माउंट आबू वाईल्ड लाइफ सैंचुरी
🌴मध्य प्रदेश 1. कान्हा राष्ट्रीय पार्क 2. पेंच राष्ट्रीय पार्क 3. पन्ना राष्ट्रीय पार्क 4. सतपुड़ा राष्ट्रीय पार्क 5. वन विहार पार्क 6. रुद्र सागर झील राष्ट्रीय पार्क 7. बांधवगढ नेशनल पार्क 8. संजय नेशनल पार्क 9. माधव राष्ट्रीय पार्क 10. कुनो नेशनल पार्क 11. माण्डला प्लांट फौसिल राष्ट्रीय पार्क
🌴अरुणाचल प्रदेश 1. नामदफा राष्ट्रीय पार्क
🌴हरियाणा 1. सुलतानपुर राष्ट्रीय पार्क 2. कलेशर राष्ट्रीय पार्क
🌴उत्तर प्रदेश 1. दूदवा राष्ट्रीय पार्क 2. चन्द्रप्रभा वन्यजीव विहार
🌴झारखंड 1. बेतला राष्ट्रीय पार्क 2. हजारीबाग राष्ट्रीय पार्क 3. धीमा राष्ट्रीय पार्क
🌴मणिपुर 1. काइबुल लाम्झो राष्ट्रीय पार्क 2. सिरोही राष्ट्रीय पार्क
🌴सिक्किम 1. खांचनजोंगा राष्ट्रीय पार्क
🌴तरिपुरा 1. क्लाउडेड राष्ट्रीय पार्क
🌴तमिलनाडु 1. गल्फ आफ मनार राष्ट्रीय पार्क 2. इन्…

Meaning of Administrative Law (Hindi)

प्रशासनिक विधि को विभिन्न लेखकों के द्वारा विभिन्न तरीके से परिभाषित किया गया है परंतु उन परिभाषाओं में से कोई भी परिभाषा ऐसी नहीं है जो प्रशासनिक विधि के समस्त पहलुओं को अपने भीतर समावेशित कर सके। प्रत्येक परिभाषा की कुछ ना कुछ कमी अवश्य है। ये परिभाषाएं निम्न प्रकार से रखी जा सकती हैं -
सर आईवर जेनिग्स  ( Sir Ivor Jennings )
"Administrative law is the law relating to administration which determines organisation the power and duties of Administrative authority."
"प्रशासनिक विधि प्रशासन से संबंधित विधि है यह प्रशासनिक अधिकारियों के संगठन शक्तियों एवं कर्तव्य को सुनिश्चित करता है।"
             जेनिंग्स की उपरोक्त परिभाषा की दो प्रमुख कमियां है -
i - यहां परिभाषा प्रशासनिक विधि एवं संवैधानिक विधि के बीच अंतर नहीं करती है।
ii - जेनिंग्स में अपनी परिभाषा के अंतर्गत प्रशासनिक विधि के अंतर्गत आने वाले प्रशासन के नियन्तणात्मक पहलू को छोड़ दिया है ।
ग्रिफिथ एवं स्ट्रीट ( Griffith and Street )
"Administrative law means and includes-
a- the types of powers exercised by administrative authorities,
b- the limits of those powers,
c- the control over those powers."
ग्रिफिथ स्ट्रीट के अनुसार प्रशासनिक विधि का तात्पर्य है एवं इसमें शामिल है-
a- प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा प्रयोग किए जाने वाले व्यक्तियों के प्रकार,
b- इन शक्तियों की सीमाएं,
c- इन शक्तियों के ऊपर नियंत्रण
यदि ग्रिफिथ एवं स्ट्रीट की परिभाषा की तुलना आइवर जेनिंग्स की परिभाषा से की जाए तो स्पष्ट होगा कि जहां एक तरफ ग्रिफिथ एवं स्ट्रीट ने प्रशासनिक विधि के नियन्तणात्मक पहलू को समाहित किया है वहीं दूसरी तरफ उन्होंने प्रशासनिक विधि के अंतर्गत प्रशासन की संरचनात्मक पहलू को छोड़ दिया है l
अतः ग्रिफिथ एवं स्ट्रीट की परिभाषा भी अपने आप में पूर्ण नहीं है।
प्रो० वेड (Prof. Wade)
प्रोफेसर वेड प्रशासनिक विधि को इस प्रकार से परिभाषित करते हैं -
"The easiest but lest satisfactory definition of Administrative law can be that it is a law which deals with administrative branch of the state."
"सबसे आसान परंतु सबसे कम संतोष प्रद प्रशासनिक विधि की परिभाषा या हो सकती है कि यह वह विधि है जो राज्य की प्रशासनिक शाखा से संबंधित है "
प्रोफेसर वेड स्वयं यह मानते हैं उनकी की परिभाषा सबसे कम संतोषप्रद है वे पहले यह मानकर चलते है कि राज्य के तीनों शाखाओं ( कार्यपालिका, विधायिका एवं न्यायपालिका ) को पृथक- पृथक रखा जा सकता है। जबकि अपने कठोरतम रूप में शक्ति पृथक्करण का सिद्धांत किसी भी देश में आधुनिक युग में लागू नहीं होता है।
स्वार्टज  (Schwartz)
" Administrative law is law controlling the administration not the law produced by administration."
" प्रशासनिक विधि प्रशासन को नियंत्रित करने वाली विधि है ना कि प्रशासन द्वारा उत्पन्न विधि ।"
स्‍वार्टज की परिभाषा की भी कमिया है वह है कि इन्होंने प्रशासनिक विधि के अन्तर्गत अध्ययन किये जाने वाले प्रशासन के संरचनात्मक पहलू को छोड दिया हैं।
के सी डेविस की परिभाषा
"Administrative law is the law concerning the powers and procedures of administrative agencies including specially the law governing the judicial review of the administrative actions."
"प्रशासनिक विधि, प्रशासनिक अभिकरणों की शक्तियों एवं प्रक्रियायो से सम्बन्ध रखने वाली विधि है जिसमें विशेष रूप से प्रशासनिक कार्यवाहियों  के न्यायिक पुनर्विलोकन को शासित करने वाली विधि सम्मिलित है।"
डेविस की उपरोक्त परिभाषा से स्पष्ट है कि सभी प्रशासनिक विधि के नियन्त्रणात्मक पहलू पर विशेष बल देते हैं और उसके संगठनात्मक पहलू को नजरअंदाज किए हैं।
डा० ए० डी० मारकस की परिभाषा  (Dr. A. D. Markas) -
" Administrative law may be defined to consist of all legal rules relating to administrative organisation, procedure and action whose purpose is the fulfillment of objects of public law and all All legal controls exercise over administrative authorities by courts, legislature or higher administrative authorities."
" प्रशासनिक विधि को निम्नलिखित सम्मिलित करने वाली विधि कहा जा सकता है-
    प्रशासनिक संगठन प्रक्रिया तथा कृत्य से संबंधित समस्त विधिक नियम जिनका उद्देश्य लोक विधि के उद्देश्य को पूरा करना होता है तथा प्रशासनिक अधिकारियों के ऊपर न्यायालयों विधायिका तथा उच्च प्रशासनिक पदाधिकारियों द्वारा प्रयुक्त समस्त विधिक नियंत्रण "
  हालांकि डाक्टर मार्कोस की परिभाषा अपने आप में संपूर्ण परिभाषा कही जा सकती है क्योंकि इसमें प्रशासनिक विधि के संगठनात्मक एवं नियंत्रनात्मक  दोनों पहलुओं को सम्मिलित किया गया है परंतु यह परिभाषा इतनी विस्तृत है कि यह किसी परिभाषा के गुणों को खो देती है एवं प्रशासकीय विधि की परिभाषा ना होकर का उसका स्पष्टीकरण प्रतीत होता है।
प्रशासनिक विधि के विकास  के कारण
प्रशासनिक विधि के विकास के लिए मूल कारक राज्य की अवधारणा में परिवर्तन ही रहा है पहले राज्य की अवधारणा राज्य की अहस्तक्षेप की थी की थी जिसमें राज्य के कार्य एवं आंतरिक सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने एवं राज्य को बाय आक्रमण से बचाए रखने तक ही सीमित थे परंतु आगे चलकर राज्य की अवधारणा कल्याणकारी राज्य की हुई जिसमें राज्य व्यक्तियों के कल्याण के बारे में भी सोचने लगा जिस उद्देश्य के लिए राज्य को विभिन्न प्रशासनिक अधिकरण में अधिकारियों की नियुक्ति करनी पड़ी जिसका स्वभाविक परिणाम हुआ प्रशासन एवं व्यक्तियों के हितों के बीच टकराव जिस टकराव को दूर करने के लिए जिस विधि का विकास हुआ प्रशासनिक विधि।
उपरोक्त सामान्य कारक के अतिरिक्त निम्न कुछ विशिष्ट कारक भी थे जो प्रशासकीय विधि के विकास के लिए उत्तरदायी रहे हैं -
People's expectation from law to solve their problems rather than to define their rights.
मनुष्य की विधि से अपेक्षा थी कि विधि उनके अधिकारों को परिभाषित करने की बजाय उनकी समस्याओं का निदान करें। 19वी शताब्दी के प्रारंभ तक मनुष्य मात्र इतने से संतुष्ट हो जाया करता था कि कानून उनके अधिकारों को परिभाषित कर दिया परंतु धीरे-धीरे मनुष्यों की विधि से अपेक्षा में बदलाव आया मनुष्य विधि से अपेक्षा करने लगे की विधि उनके अधिकारों को परिभाषित करने के बजाय उनके प्रति दिन की व्यवहारिक समस्याओं का निराकरण करें । लोगों की इस बदली हुई अपेक्षा को पूरा करने के लिए राज्य को तमाम सारे प्रशासनिक अधिकारियों को नियुक्त करना पड़ा। साथ ही साथ तमाम सारे प्रशासनिक अभीकरणो की स्थापना भी करनी पड़ी जिसका अभिप्राय हुआ प्रशासनिक विधि का विकास।
Change in the Attitude of the people towards the functions of the state.
17 -18 वी यहां तक की 19वीं शताब्दी तक मनुष्य मात्र इतने से संतुष्ट हो जाया करता था कि उसके शरीर एवं संपत्ति के विरुद्ध हुए हानि के लिए राज्य द्वारा क्षतिपूर्ति प्रदान कर दिया जाता था परंतु आज के युग का व्यक्ति मात्र इतने से संतुष्ट नहीं होता है लोग यह नहीं चाहते कि किसी क्षति की दशा में क्षतिपूर्ति दी जाए बल्कि उनकी अपेक्षा यह है कि राज्य क्षति उत्पन्न करने वाले कारकों को ही समाप्त कर दे इनको को समाप्त करने के लिए राज्य को तमाम सारी प्रशासनिक पदाधिकारियों की नियुक्ति करनी होगी जिसका अभिप्राय होगा प्रशासनिक विधि का विकास।
Legislation on ever widening fronts.
आज के कल्याणकारी राज्य की अवधारणा के अंतर्गत राज्य को तमाम सारी कल्याणकारी कानून बनाने होते हैं हमारी विधायिका निम्नलिखित कारणों से विधायक की उस गुणवत्ता को नहीं प्रदान कर पाती जिसके प्रदान किए जाने की इससे अपेक्षा की जाती है। इसलिए विधायिका स्वयं कानून बनाने की शक्ति को कार्यपालिका को प्रत्यायोजित कर देती है जिसका तात्पर्य है प्रशासनिक विधि का विकास प्रत्यायोजित विधान की इस प्रणाली के विकसित होने के लिए निम्न कारण है -
A - समय की कमी
विधायिका के पास समय की कमी एवं कार्य की अधिकता होती है जिसके कारण विधायिका कानून के सिर्फ बाह्य ढांचे को ही पारित करती है एवं उसके अंतर्गत विस्तृत नियम के बनाए जाने की शक्ति को प्रशासन को प्र त्यायोजित कर देती है जिसका तात्पर्य होगा प्रशासनिक विधि का विकास।
B. तकनीकी प्रकृति ( Technical Nature
आज के कल्याणकारी युग में विधायकों को तमाम सारे कानून पास करने होते हैं जो अत्यंत तकनीकी प्रकृति के होते हैं जिसको समझ सकने में विधायिका के सदस्य तकनीकी ज्ञान नहीं रखते हैं इस कारण विधायिका कानून बनाने की शक्ति को ऐसे प्रशासनिक निकायों को सौंप देते हैं जिनके सदस्य तकनीकी ज्ञान रखते हैं प्रत्यायोजित विधान की प्रणाली भी इस प्रकार प्रशासकीय विधि के विकास में सहायक रही है।
C. भविष्य की घटनाओं के लिए। For Future Events.
आज के जटिल समाज के अंतर्गत तमाम सारे ऐसी समस्याएं उत्पन्न होती है जिनके लिए तत्काल कानून बनाया जा सकता संभव नहीं होता है इसलिए विधायिका कानून की शक्ति कार्यपालिका को सौंप देती है कि जब जैसी आवश्यकता हो कार्यपालिका प्रायोजित विधान की प्रणाली अपना कर नियम इत्यादि बना सके इसका तात्पर्य होगा अशासकीय विधि का विकास।
D. परिवर्तनीय विषयों के लिए
तमाम सारे ऐसे विषय होते हैं जिनके संबंध में अग्रिम रूप से कानून बनाया ही नहीं जा सकता उदाहरण के लिए यदि काफी के निर्यात के संदर्भ में कानून बनाया जाता है तो विधायिका कठिनाई महसूस करेगी क्योंकि काफी का मूल्य मांग एवं आपूर्ति पर निर्भर करेगा इसलिए जो तकनीकी अपनाई गई वह था काफी बोर्ड का गठन जिसको नियम बनाने की शक्ति प्रत्यायोजित गई।
E. अचानक उत्पन्न मामलों के लिए
अचानक उत्पन्न हो रहे मामलो के लिए भी विधायिका अग्रिम रूप से कानून नही बना सकती इसके लिए कार्यपालिका को विधायी शक्ति  प्रत्यायोजित कर दी  जाती है।

Comments

Popular posts from this blog

आदित्य हृदय स्तोत्र

वाल्मीकि रामायण के अनुसार “आदित्य हृदय स्तोत्र” अगस्त्य ऋषि द्वारा भगवान् श्री राम को युद्ध में रावण पर विजय प्राप्ति हेतु दिया गया था।आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ नियमित  करने से अप्रत्याशित लाभ मिलता है। आदित्य हृदय स्तोत्र के पाठ से नौकरी में पदोन्नति, धन प्राप्ति, प्रसन्नता, आत्मविश्वास के साथ-साथ समस्त कार्यों में सफलता मिलती है। हर मनोकामना सिद्ध होती है। इसके नियमित पाठ से मानसिक कष्ट, हृदय रोग, तनाव, शत्रु कष्ट और असफलताओं पर विजय प्राप्त की जा सकती है. इस स्तोत्र में सूर्य देव की निष्ठापूर्वक उपासना करते हुए उनसे विजयी मार्ग पर ले जाने का अनुरोध है. आदित्य हृदय स्तोत्र सभी प्रकार के पापों , कष्टों और शत्रुओं से मुक्ति कराने वाला, सर्व कल्याणकारी, आयु, उर्जा और प्रतिष्ठा बढाने वाला अति मंगलकारी विजय स्तोत्र है।
पढ़ें संपूर्ण पाठ...   विनियोग ॐ अस्य आदित्यह्रदय स्तोत्रस्य अगस्त्यऋषि: अनुष्टुप्छन्दः आदित्यह्रदयभूतो
भगवान् ब्रह्मा देवता निरस्ताशेषविघ्नतया ब्रह्माविद्यासिद्धौ सर्वत्र जयसिद्धौ च विनियोगः पूर्व पिठिता ततो युद्धपरिश्रान्तं समरे चिन्तया स्थितम्‌ । रावणं चाग्रतो दृष्ट्वा युद्…

Full form of AICTE

The Full Form of AICTE is - 
A -  AllI  -  IndiaC - Council for T - TechnicalE - Education
About AICTEThe All India Council for Technical Education(AICTE) is the statutory body and a national-level council for technical education, under Department of Higher Education, Ministry of Human Resource Development. It was established in November 1945 first as an advisory body and later on in 1987 given statutory status by an Act of Parliament.
AICTE is responsible for proper planning and coordinated development of the technical education and management education system in India. 
The AICTE accredits postgraduate and graduate programs under specific categories at Indian institutions as per its charter. https://youtu.be/ws4V8HBtYaU

प्रमुख उत्पादन क्रांतियां

🌎🌎प्रमुख उत्पादन क्रान्तियां
🌎भूरी क्रांति – उर्वरक उत्पादन
🌎रजत क्रांति – अंडा उत्पादन
🌎पीली क्रांति – तिलहन उत्पादन
🌎कृष्ण क्रांति – बायोडीजल उत्पादन
🌎लाल क्रांति – टमाटर/मांस उत्पादन
🌎गुलाबी क्रांति – झींगा मछली उत्पादन
🌎बादामी क्रांति – मासाला उत्पादन
🌎सुनहरी क्रांति – फल उत्पादन
🌎अमृत क्रांति – नदी जोड़ो परियोजनाएं
🌎धुसर/स्लेटी क्रांति– सीमेंट
🌎गोल क्रांति– आलु
🌎सदाबहार क्रांति– जैव तकनीकी
🌎सेफ्रॉन क्रांति– केसर उत्पादन से
🌎स्लेटी/ग्रे क्रांति–उर्वरको के उत्पादन से
🌎हरित सोना क्रांति–बाँस उतपादन से
🌎मूक क्रांति–   मोटेअनाजों के उत्पादन से
🌎परामनी क्रांति– भिन्डी उत्पादन से
🌎ग्रीन गॉल्ड क्रांति– चाय उत्पादन से
🌎खाकी क्रांति– चमड़ा उत्पादन से

भारत के राष्ट्रीय उद्यान - राज्यवार

🎓  नेशनल पार्क ~राज्यवार 
🌴राजस्थान 1. केवला देवी राष्ट्रीय उद्यान 2. रणथ्मभोर राष्ट्रीय पार्क 3. सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान 4. डैजर्ट राष्ट्रीय पार्क 5. दर्रा राष्ट्रीय पार्क 6. घना पक्षी राष्ट्रीय पार्क 7. केवला देवी राष्ट्रीय पार्क 8. ताल छापर अभ्यारण्य 9. माउंट आबू वाईल्ड लाइफ सैंचुरी
🌴मध्य प्रदेश 1. कान्हा राष्ट्रीय पार्क 2. पेंच राष्ट्रीय पार्क 3. पन्ना राष्ट्रीय पार्क 4. सतपुड़ा राष्ट्रीय पार्क 5. वन विहार पार्क 6. रुद्र सागर झील राष्ट्रीय पार्क 7. बांधवगढ नेशनल पार्क 8. संजय नेशनल पार्क 9. माधव राष्ट्रीय पार्क 10. कुनो नेशनल पार्क 11. माण्डला प्लांट फौसिल राष्ट्रीय पार्क
🌴अरुणाचल प्रदेश 1. नामदफा राष्ट्रीय पार्क
🌴हरियाणा 1. सुलतानपुर राष्ट्रीय पार्क 2. कलेशर राष्ट्रीय पार्क
🌴उत्तर प्रदेश 1. दूदवा राष्ट्रीय पार्क 2. चन्द्रप्रभा वन्यजीव विहार
🌴झारखंड 1. बेतला राष्ट्रीय पार्क 2. हजारीबाग राष्ट्रीय पार्क 3. धीमा राष्ट्रीय पार्क
🌴मणिपुर 1. काइबुल लाम्झो राष्ट्रीय पार्क 2. सिरोही राष्ट्रीय पार्क
🌴सिक्किम 1. खांचनजोंगा राष्ट्रीय पार्क
🌴तरिपुरा 1. क्लाउडेड राष्ट्रीय पार्क
🌴तमिलनाडु 1. गल्फ आफ मनार राष्ट्रीय पार्क 2. इन्…

Important Battles of Indian History

327-326 B.C. – Alexander invades India. Defeats Porus in the Battle of Hydaspes (Jhelum)326 B.C. 305 B.C. – Chandragupta Maurya defeats the Greek king Seleucus.216 B.C. – The Kalinga War. Conquest of Kalinga by Ashoka.155 B.C. – Menander’s invasion of India. 90 B.C. – The Sakas invade India.454 – The first Huna invasion.495 – The second Huna invasion.711-712 – The Arab invasion of Sind under Mohammed-binQasim.1000-1027 – Mahmud Ghazni invades India 17 times.1175 - 1206- Invasions of Muhammad Ghori.1191- First Battle of Tarain, Prithvi Raj Chauhan defeats Muhammad Ghori. 1192- Second Battle of Tarain, Muhammad Ghori defeats Prithviraj Chauhan;1194 - Battle of Chandawar, Muhammad Ghori defeats Jayachandra Gahadvala of Kannauj.1294 – Alauddin Khalji invades the Yadava kingdom of Devagiri. The first Turkish invasion of the Deccan.1398 – Taimur invades India. Defeats the Tughlaq Sultan Mahmud Shah; the Sack of Delhi.1526 – Babur invades India and defeats the last Lodi Sultan Ibrahim Lodi i…